HEADER-advt
t

अर्ली टू बेड एंड अर्ली टू राइज =सफलता




आईआईटी जेईई मेन में दिल्ली में टॉप और ऑल इंडिया में 8 वीं रैंक लाने वाले भावित अरोड़ा कड़ी मेहनत और समर्पण को सफलता का राज मानते हैं. उनका कहना कि हैं कि स्टूडेंट को बेसिक कॉसेप्ट को क्लीयर करने के साथ आगे बढ़ना चाहिए. विद्या एक्सप्रेस संवाददाता ने उनसे बात की.



आप अपने बारे में बताइएं. आईआईटी में आने के लिए शुरूआत कब और कैसे की ?


मैं राजस्थान के गंगानगर का रहने वाला हूं. मेरी मम्मी गवर्नमेंट स्कूल में साइंस टीचर है और पिता जी कॉलेज में प्रिसिंपल हैं. मैं जब क्लास 4 में था तब मैंने पहली बार आईआईटी एक्जाम के बारे में अपने टीचर से सुना था तभी मैंने उसी समय यह निश्चय कर लिया था कि आगे चलकर मुझे आईआईटी में दाखिला लेना हैं. दिल्ली के बास्को पब्लिक स्कूल में 11 क्लॉस में एडमिशन लिया और साथ ही तैयारी में जुट गया.


आपने इंडिया में 8वीं रैंक प्राप्त किया है, यह सफलता हासिल करने के लिए आपने किस तरह की मेहनत की.


सबसे पहले मैंने बेसिक कांसेप्ट को मजबूत किया और सेल्फ स्टडी पर ज्यादा ध्यान दिया. इसके बाद स्कूल और कोचिंग में पढ़ाये गये सिलेबस पर कड़ी मेहनत की. कोचिंग द्वारा होने वाले रेगुलर टेस्ट से मुझे काफी फायदा हुआ.


क्या आईआईटी में सफलता के लिए कोचिंग आवश्यक है. कॉलेज, कोचिंग और घर में पढ़ाई के बीच कैसे समन्वय बनाते थे आप ?


यदि एक्जाम पास करना हैं तो बिना कोचिंग के भी किया जा सकता हैं, लेकिन अगर अच्छी रैंक लानी हो तो कोचिंग का सहयोग जरूरी होता हैं. मैं सुबह 5 उठकर घर पर पढ़ाई करता था, उसके बाद कालेज फिर शाम को कोचिंग फिर रात को 10 बजे तक पढ़ता था और कॉलेज, कोचिंग के नोट्स में समन्वय बनाकर पढ़ाई करता था और सब्जेक्ट को बराबर प्रैक्टिस करता था.


आपको तैयारी के लिए अपने घर से कितना सपोर्ट मिला. अपनी सफलता का श्रेय किसे देंगे ?


मेरे मम्मी-पापा ने हमेशा से मुझे पढ़ाई के लिए मोटीवेट किया. मैं अपनी सफलता का श्रेय मम्मी-पापा के अलावा मेरे हॉस्टल के दोस्त जिनके साथ मिलकर ग्रुप में पढ़ाई करता था. इसका सबसे बड़ा श्रेय नारायणा कोचिंग के कमेस्ट्री टीचर अनुराग मिश्रा सर को जाता है, जिन्होंने मुझे हमेशा मोटीवेट किया और सारी समस्याओं को समाधान किया.


आगे एडमिशन कहां लेंगे. आपका पसंदीदा सब्जेक्ट क्या है .आपका क्या लक्ष्य हैं ?


मैं इलेक्ट्रिकल इंजीनीयर बनना चाहता हूं आगे की पढ़ाई कर देश के विकास में के लिए कार्य करना चाहूंगा.


तैयारी करने वाले छात्रों के लिए आपका क्या संदेश हैं.वो सफलता पाने के लिए किस तरह की तैयारी करें ?


आईआईटी में सफलता पाने के लिए सबसे पहले बेसिक कॉन्सेप्ट को तैयार करें. आगे की तैयारी में जितना हो सके सेल्फ स्टडी करें, कॉलेज और कोचिंग में बैलेंस बनाकर पढ़ाई करें, अवेयर रहें और जो बेस्ट ऑप्शन लगें उसका चुनाव करें.



Advertisement
Pop Up Modal Window Click me